कोरोना संकट में छवि चमकाती रही बीजेपी, गूगल विज्ञापन पर खर्च किए 17.63 करोड़ रुपये

0
458

जहां देश कोरोना संकट में भूख, गरीबी, लाचारी से जूझ रहा था। वहीं दूसरी और बीजेपी अपनी छवि चमकाने में लगी रही। फरवरी 2019 से अब तक बीजेपी ने अपनी छवि चमकाने के लिए गूगल विज्ञापन पर 17.63 करोड़ रुपये का भारी भरकम खर्चा किया।

हालांकि इस दौरान दूसरी राजनीतिक दलों ने भी खर्च किया। लेकिन वह बीजेपी के खर्चे से कम रहा। इस दौरान कांग्रेस ने केवल 3 करोड़ रुपए ही गूगल विज्ञापन पर खर्च किए। जबकि भाजपा का विज्ञापनों पर ये खर्च कांग्रेस के खर्च से लगभग 6 गुना ज्यादा है।

बीजेपी का खर्चा सिर्फ 17.63 करोड़ रुपये तक ही सीमित नहीं रहा। बल्कि महाराष्ट्र में भाजपा ने अलग से 1.06 करोड़ रुपए विज्ञापन पर खर्च कर डाले। वहीं सत्तारूढ शिवसेना ने सिर्फ 35 लाख का  खर्चा किया। वहीं कम्यूनिस्ट पार्टी ने तो 17.04 लाख रुपए के खर्च में ही खुद को समेट दिया।

हालांकि विधान सभा चुनाव के दौरान तमिलनाडु की डीएमके सबसे ज्यादा गूगल विज्ञापनों पर खर्च करने वाली पार्टी रही। जिसने 2.25 करोड़ रुपये का खर्च किया। इसके अलावा सभी राजनीतिक दलों ने अन्य विज्ञापनों पर भी खर्च किया है। जो अलग है।

इस मामले में कांग्रेस ने बीजेपी को घेरने की कोशिश की है। कांग्रस नेता रितु चौधरी ने कहा कि सच्चाई यह है कि आप हो या भाजपा, दोनों ही प्रचार के बल पर अपनी राजनीति चमकाना चाहते हैं। भाजपा से पूछना चाहिए कि दिल्ली के सड़कों पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का प्रचार क्यों किया जा रहा है?

उन्होंने आरोप लगाया कि योगी आदित्यनाथ अपने काम के बल पर नहीं, बल्कि प्रचार के जरिए यूपी विधानसभा चुनाव 2022 जीतने की कोशिश कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here