दुनिया भर में भूख से मर रहे हर मिनट 11 लोग, अमीर होते जा रहे और अमीर

0
358

संपत्ति का असमान वितरण दुनिया भर के लिए एक अभिशाप बना हुआ है। जिसके अंतर्गत अमीर और अमीर होता जा रहा है तो गरीब और गरीब। ऐसे में ऑक्सफैम ने एक दिल दहला देने वाली रिपोर्ट जारी की है। जिसके अंतर्गत दुनिया भर में भूख से हर मिनट में 11 लोग मर रहे है।

‘दि हंगर वायरस मल्टीप्लाइज’ नाम की रिपोर्ट में ऑक्सफैम ने कहा कि विश्व भर में अकाल और भुखमरी जैसे हालातों का सामना करने वालों की संख्या पिछले साल की तुलना में 6 गुना अधिक बढ़ गई है। ऐसे में भूख से मरने वालों का आकडा कोविड से मरने वालो के आकडे से कही ज्यादा है।

ऑक्सफैम अमेरिका के अध्यक्ष एवं सीईओ एब्बी मैक्समैन ने कहा, ‘‘आंकड़े हैरान करने वाले हैं। लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि ये आंकड़े उन लोगों से बने हैं जो अकल्पनीय पीड़ा से गुजर रहे हैं।’’ उन्होने कहा, ‘आज कोविड-19, आर्थिक गिरावट के शीर्ष पर निरंतर संघर्ष और बिगड़ते जलवायु संकट ने 520,000 से अधिक लोगों को भुखमरी के कगार पर धकेल दिया है।’

ऑक्सफैम ने ये भी कहा कि विश्व भर में सेनाओं पर होने वाला खर्च कोरोना महामारी काल में 51 अरब डॉलर बढ़ गया, जबकि यह राशि भुखमरी को खत्म करने के लिए संयुक्त राष्ट्र को जितने धन की जरूरत है उसके मुकाबले कम से कम छह गुना ज्यादा है।

रिपोर्ट में ‘भुखमरी से सर्वाधिक प्रभावित’’ की सूची में अफगानिस्तान, इथियोपिया, दक्षिण सूडान, सीरिया और यमन का नाम है। मैक्समैन ने कहा, ‘‘आम नागरिकों को भोजन पानी से वंचित रखा जा रहा है। भुखमरी को युद्ध के हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। बाजारों पर बम बरसाए जा रहे है।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here