ईडी ने बुजुर्ग मां को नोटिस भेज किया तलब तो बोली महबूबा मुफ़्ती – डराने की कोशिश

0
309
महबूबा मुफ्ती का कहना है कि परिसीमन आयोग से नहीं मिलने के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने उनकी मां को नोटिस भेजा है। उन्होने कहा, राजनीतिक विरोधियों को डराया-धमकाया जा रहा है।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख महबूबा मुफ्ती की 70 वर्षीय मां गुलशन नजीर को 14 जुलाई को श्रीनगर में व्यक्तिगत रूप से पेश होने के लिए तलब किया।

महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट कर बताया कि प्रवर्तन निदेशालय ने उनकी मां गुलशन नजीर को 14 जुलाई को श्रीनगर में व्यक्तिगत रूप से पेश होने के लिए तलब किया है। उन्होने परिसीमन आयोग से नहीं मिलने के फैसले को इसके पीछे वजह बताया।

उन्होने कहा, “जिस दिन पीडीपी ने परिसीमन आयोग से नहीं मिलने का फैसला किया, ईडी ने मेरी मां को अज्ञात आरोपों के लिए व्यक्तिगत रूप से पेश होने के लिए समन भेजा।” महबूबा मुफ़्ती ने कहा, “राजनीतिक विरोधियों को डराने-धमकाने के अपने प्रयासों में, भारत सरकार वरिष्ठ नागरिकों को भी नहीं बख्शती है। एनआईए और ईडी जैसी एजेंसियां अब हिसाब चुकता करने के उसके टूल्स बन चुकी हैं।’

अपने ट्वीट के साथ उन्होने उन्होंने ईडी के सहायक निदेशक सुनील कुमार द्वारा जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और भारत के पूर्व गृह मंत्री दिवंगत मुफ्ती मोहम्मद सईद की पत्नी गुलशन नज़ीर को जारी किए गए समन को भी शेयर किया। बता दें कि पीडीपी ने परिसीमन प्रक्रिया से अलग रहने का फैसला किया है। पीडीपी का कहना है कि आयोग के पास ‘संवैधानिक तथा कानूनी जनादेश’ का अभाव है।

उन्होने परिसीमन आयोग को पत्र भेज कहा कि लोगों की पीड़ा को कम करने के लिए कोई आधारभूत कार्य नहीं किया गया है। राजनीतिक गतिविधि के लिए कोई विश्वसनीय कदम नहीं उठाए गए हैं। जिसको देखते हुए परिसीमन आयोग की बैठक में पीडीपी शामिल नहीं होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here